Wednesday, 3 May 2017

SBI में है आपका खाता तो आपको ये 3 बातें जरूर पता होनी चाहिए

नई दिल्ली (जेएनएन)। अब ग्राहकों को एसबीआई कार्ड के जरिए मकान का किराया ऑनलाइन भुगतान करने की सुविधा दी जाएगी। इसके लिए कंपनी ने लंदन की वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी रेडजिराफ के साथ साझेदारी की है। आपको बता दें कि रेडजिराफडॉटकॉम ने एक प्लेटफॉर्म रेंटपे शुरू किया है। इसकी मदद से क्रेडिट कार्ड से किराये आदि का भुगतान किया जा सकेगा।

रेडजिराफ के फाउंडर और सीईओ मनोज नायर का कहना है कि एसबीआई कार्डधारक अब अपने रेंट की अदायगी क्रेडिट कार्ड के जरिए कर सकेंगे और साथ ही अपने सिबिल स्कोर को भी मजबूत बना सकेंगे। नायर का मानना है कि मार्च 2018 तक एसबीआई कार्ड के एक लाख ग्राहक रेंटपे का इस्तेमाल करेंगे।
अगर आपका  बैंक खाता स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) में है तो आपको कम से कम तीन बातें जरूर पता होनी चाहिए, जानिए।
SBI ने घटाईं एफडी की ब्याज दरें
एसबीआई ने विभिन्न मैच्योरिटी वाले टर्म डिपॉजिट की जमा दरों में आधी फीसदी (50 bps) तक की कटौती की है। ये दरें 1 करोड़ रुपए से कम के मध्यम और दीर्घकालिक जमाओं के लिए संशोधित की गई हैं।
बैंक ने बताया कि अब नई संरचना के मुताबिक दो से कम तीन वर्षों के जमा के लिए, एसबीआई 6.25 फीसद दर की पेशकश करेगा, जबकि इससे पहले यह दर 6.75 फीसद रही थी। इसी तरह की परिपक्वता के लिए, वरिष्ठ नागरिकों की जमा दरों को 7.75 फीसद से घटाकर 7.25 फीसद कर दिया गया है। वहीं, 3 साल से 10 साल के टर्म डिपॉजिट के ब्याज में एसबीआई ने चौथाई फीसदी (25 बेसिस प्वाइंट) की कटौती कर इसे 6.50 फीसदी कर दिया है।

किन बैंक खातों के लिए मिनिमम बैलेंस नहीं है जरूरी
सार्वजनिक क्षेत्र के दिग्गज बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने अपने ग्राहकों को स्पष्ट किया है कि छोटे बचत खाते, बेसिक सेविंग्स बैंक अकाउंट्स, जन धन अकाउंट और कॉर्पोरेट सैलरी अकाउंट धारकों को न्यूनतम बैलेंस मेंटेन करने की जरुरत नहीं है। बैंक ने यह जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी है। बैंक ने एक अप्रैल से सेविंग अकाउंट में मिनिमम बैलेंस सीमा को बढ़ा दिया था।
जानिए किन खातों के लिए मिनिमम बैलेंस है जरूरी
एसबीआई ने में मेट्रो शहरों के लिए मिनिमम बैलेंस 5,000 रुपये, शहरी इलाकों के लिए 3,000 रुपये, अर्द्ध-शहरी (सेमी अर्बन) इलाकों के लिए 2,000 रुपये और ग्रामीण इलाकों के लिए 1,000 रुपये तय की है। एक अप्रैल से यह नियम प्रभावी हो चुका है। आपको बता दें कि यह जुर्माना जरूरी मिनिमम बैलेंस और उसमें कमी के बीच के अंतर पर आधारित होगा।
बैंक की वेबसाइट के मुताबिक एसबीआई के बचत खाताधारकों को मासिक आधार पर न्यूनतम राशि को अपने खाते में रखना होगा। ऐसा न करने पर ग्राहकों को 20 रुपये (ग्रामीण शाखा) से 100 रुपये (महानगर) देने पड़ सकते हैं। बैंक में 31 मार्च तक बिना चेक बुक वाले बचत खाते में 500 रुपये और चेक बुक की सुविधा के साथ 1,000 रुपये रखने की आवश्यकता थी।

No comments:

Post a Comment