Wednesday, 7 March 2018

7 वां वेतन आयोग: केंद्रीय सरकार के कर्मचारियों, पेंशनरों के लिए 2 प्रतिशत की दर से महंगी भत्ते बढ़ने की संभावना

नई दिल्ली, 7 मार्च: नरेंद्र मोदी सरकार केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनधारियों के लिए महंगाई भत्ते बढ़ाने की तैयारी कर रही है। सूत्रों के मुताबिक, सरकार महंगाई भत्ते में 2 प्रतिशत की बढ़ोतरी को मंजूरी देने की प्रक्रिया में है।
महंगाई भत्ता में बढ़ोतरी हो सकती है, परन्तु विवादित रिपोर्टें हैं कि क्या सरकार 7 वें वेतन आयोग की सिफारिशों (7 वीं सीपीसी) की तुलना में न्यूनतम वेतन और फिटमेंट फैक्टर बढ़ा सकती है या नहीं

केंद्रीय कैबिनेट ने वेतन वृद्धि और भत्ता, 28 जून, 2016 को 7 वें वेतन आयोग की सिफारिशों को मंजूरी दे दी। 7 वें वेतन आयोग ने 14.27 प्रतिशत वृद्धि की सिफारिश की थी, जिसमें मूल वेतन 70 वर्षों में सबसे कम था। 7 वें वेतन आयोग ने न्यूनतम वेतन 7,000 रुपये से बढ़ाकर 18,000 रुपये प्रति महीने कर दिया था, जबकि अधिकतम वेतन 80,000 रुपये से बढ़ाकर 2.25 लाख रुपये कर दिया गया था और कैबिनेट सचिव के लिए अधिकतम 2.5 लाख रुपये वरिष्ठ-सिविल सेवक ने बढ़ाया था।

सितंबर 2017 में, सरकार ने एक प्रतिशत अतिरिक्त डीए को केंद्र सरकार के कर्मचारियों और महंगी राहत (डीआर) से पेंशनधारियों को कीमत वृद्धि के लिए क्षतिपूर्ति करने के लिए मंजूरी दे दी थी।
एक आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है कि डीए के इस अतिरिक्त किस्त ने मूल वेतन / पेंशन के चार प्रतिशत की मौजूदा दर से एक प्रतिशत की बढ़ोतरी का प्रतिनिधित्व किया है और 7 वीं केंद्रीय वेतन आयोग की सिफारिशों के आधार पर स्वीकार किए गए फार्मूले के अनुसार है। इस निर्णय से 49.26 लाख केंद्रीय कर्मचारियों और 61.17 लाख पेंशनभोगियों को लाभ हुआ

जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि डीए और डीआर 2016-07-18 वित्तीय वर्ष (जुलाई 2017 से फरवरी 2018) में खजाना को प्रति वर्ष 3,068.26 करोड़ रुपये और 2,045.50 करोड़ रुपये बोझ होगा।

No comments:

Post a Comment