Wednesday, 7 March 2018

१०/१२ के लिए बोर्ड टॉपर बनने के बेस्‍ट तरीके

१०/१२ के लिए बोर्ड टॉपर बनने के बेस्‍ट तरीके 

1 - पायें परीक्षा में 100% सफलता रखें सकारात्‍मक सोच 

सबसे पहले आपको अपनी सोच को सकारात्‍मक रखना बहुत आवश्‍यक है यदि आपने टॉपर बनने की ठान ली है तो आपको अपनी सोच पॉजिटिव (सकारात्‍मक) लेनी होगी क्‍योकि कई बार ऐसा होता है कि जब हम काफी मेहनत करते है और उसका रिजल्ट हमे प्राप्त नहीं होता तो हम अपनी सोच बदल लेते है और अक्‍सर वही होता है जो हम सोचते है इसलिए हमें अपनी मेहनत के साथ - साथ अपनी सकारात्‍मक सोच के साथ अपनी मेहनत करनी होगी

2 - पाठयक्रम की पूरी जानकारी

हम जिस परीक्षा की तैैैैयारी कर रहे है हमें उस परीक्षा में आने वाले पाठयक्रम की पूरी जानकारी होना अति आवश्‍यक है जिससे कि हम केवल उन्‍ही विषयों का अध्‍ययन करें जिससे हमारी परीक्षा में प्रश्‍न पूछें जायेगें

3 - नियमित पढाई 

कभी - कभी विधार्थी रोजाना पढते है और कुछ समय बाद बोर हो जाते है और एक दिन पढाई की और दूसरे दिन नहीं पढतें, लेकिन अगर आप को किसी भी परीक्षा में टॉप करना है तो अापको अपनी पढाई को नियमित करना हाेेेगा क्‍योंकि लगातार पढते रहना ही सही तैयारी की पहचान है और हमें अपनी पढाई को नियमित करने के लिए अपनी पढाई करने के तरीके में बदलाव करते रहना जरूरी होता है जिससे पढाई में मन लगा रहें

4 - टाइम टेबल का प्रयोग

नियमित पढाई के साथ - साथ टाइम टेबल के साथ पढाई करना भी आवश्‍यक है आपको अपना एक टाइम टेबल सेट करना होगा उसके अनुसार रोज पढ़ना होगा यदि आप टाइम टेबल बनाकर एग्जाम की तैयारी करते है तो आप अपने सारे सब्जेक्ट्स की तैयारी अच्छे से कर पाएंगे कई स्टूडेंट्स ऐसे भी होते है लेकिन जब तैयारी में कोई एक विषय होता है तैयारी आसानी से हो जाती है लेकिन जब तैयारी में विषय की कोई सीमा नही होती है तो टाइम टेविल आवश्‍यकता पडती है

5 - टाइमर लगाकर करें तैयारी

कई बार हमें सारे प्रश्‍न आने के बाबजूद हम परीक्षा मेें सारे प्रश्‍नों को नहीं कर पाते हैं क्‍योंकि हमारे पास टाइम की कमी होती है सबसे पहले अपनी परीक्षा का पैटर्न पता करें और यह पता करें कितने प्रश्‍न हल करने के लिये किनते मिनट या घंटे मिलेगें, अब उतने मिनट का टाइमर लगाकर प्रश्‍नों को हल करने की प्रेक्टिस करें, इससे आप खुद समझ जायेगें कि आपको और कितनी मेहनत की जरूरत है 

6 - समूह में तैयारी 

कभी - कभी अकेले पढने से हम पढाई नहीं कर पातें लेकिन अपने दोस्तों के साथ ग्रुप डिस्‍कशन करने से किसी कठिन से कठिन टॉपिक को आसानी से समझा जा सकता है यदि आप ग्रुप डिस्कशन के माध्यम से पढ़ाई करते है. तो इससे आपको दो फायदे हैं - एक आप किसी डिफिकल्ट टॉपिक को भी आसानी से समझ पाएंगे और दूसरा यह कि आपका कॉन्फिडेंस लेवल भी बढ़ेगा

7 - सही किताबों का चयन

परीक्षा में टॉप करने के लिए हमें सही किताबों के चयन की आवश्‍यकता भी होती है क्‍योंकि अगर हम परीक्षा से सम्‍बन्धित सही किताब पर अध्‍ययन करते है तो हमें सफलता जरूर मिलती है कई बार हम अध्‍ययन तो बहुत करते है लेकिन हमें सफलता मिलने मेें काफी समय लग जाता है इसलिए हमें परीक्षा सम्‍न्धित सही किताबों का भी चयन करना चाहिए

 8 - नोट्स बनाए 

पढाई के साथ अाप उन टॉपिक्‍स के नोट्स भी बना सकते है जो आपको डिफिकल्ट टॉपिक लगते है नोटस बनाने के आपको दो फायदे होना तो है ही एक तो आप परीक्षा के समय उन नोट्स को पढ़कर ही एग्जाम की अच्छी और कम समय में तैयारी कर पाएंगे और दूसरा जो नोट्स आपने अपने हाथो से बनाए है वे लिखकर बनाए होंगे और लिखी हुई चीज हमे ज्यादा देर तक याद रहती है इसलिए नोट्स के माध्यम से भी आप एग्जाम की काफी अच्छी तैयारी कर सकते है

9 - सही कोचिंग का चयन

ज्‍यादातर विधार्थी हमेशा कोचिंंग के द्वारा तैयारी करते है और उनके दोस्‍त जिस कोचिंग में पढाई करते है वह उनके साथ उसी कोचिंग में पढने जाते है लेकिन हमें सही कोचिंग सेण्‍टर का चयन करना चाहिए जिससे की हमें अपनी आने वाली परीक्षा से सम्‍बन्धित ही पढने को मिले

10 - पिछले साल के प्रश्न पत्रों का अध्‍ययन 

टॉपर बनने के लिए आपको पिछले साथ के प्रश्‍न पत्रों से मदद भी मिलेगी और आपको यह भी पता चल जायेगा कि किस टाइप के प्रश्न परीक्षा में आते हैैै, ज्‍यादातर प्रश्‍न पिछले साल के प्रश्न पत्रों से ही पूछे जाते है और यदि संभव हो तो रोज एक प्रश्न पत्र हल करे जिससे आपको परीक्षा के समय टाइम का भी पता चल जायेगा

11 -  स्टडी ब्रेक

जब हम लगातार पढ़ते- पढ़ते तनाव महसूस करने लगते है या आपको पढ़ाई करते-करते 2 या 3 घण्टे हो चुके हो तो कुछ समय के लिए आप एक ब्रेक जरूर ले परन्तु ये ब्रेक केवल 15 से 20 मिनट तक ही रखे

12 - कमजोरीयों पर काम 

जब हम पढाई करते है जो कोई भी विधार्थी सारी विष्‍ायों मेें होशियार तो नहीं होता इसलिए हमें उन विषयों पर ज्‍यादा से ज्‍यादा काम करना चाहिए जिन विषयों में हम अपने अाप को कमजोर समझते है क्‍योकि जो टॉपिक हमें आते है उनका तो हम अपने अाखरी समय में रिविजन कर सकते है 

13 - आखिरी तैयारी 

परीक्षा के आखिरी दिनों में हमें केवल उन्‍ही टॉपिक का रिविजन करना चाहिए जो हमें आते है आखिरी समय में किसी नये टॉपिक को शुरू नहीं करना चाहिए क्‍योकि आखिरी समय हमारी कमजोरियों दूर करने के लिए नहीं होता बल्कि अपनी पढाई को मजबूत करने के लिए होता है

14 - परीक्षा के समय ध्‍यान रखें 

जरूरी नही है आप जैसा घर से सोच कर निकले है पेपर आपको वैसा ही मिले इसलिए जब आपको पेपर मिले सबसे पहले उन प्रश्‍नों को हल करें जो आपको अच्‍छे से आते है जब सारे प्रश्‍न कर लें उसके बाद फिर से प्रश्‍नों की जॉच करें क्‍योकि कभी - कभी हम ऐसे प्रश्‍न को छोडकर आते है जो हमें अच्‍छे से आता था

No comments:

Post a Comment